Web Hosting क्या है और कितने प्रकार के होते हैं

अगर आप Blogging करते हैं या Blogging के बारे में थोड़ा बहुत भी जानते हैं तो आप Hosting बारे में जरूर सुना होगा, और अगर आप Hosting के बारे में नहीं जानते हैं और Hosting के बारे में जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो आज की इस पोस्ट को पूरा अंत तक जरूर पढ़ें। क्योंकि आज की इस पोस्ट में हम आपको पूरी details के साथ में बताने वाले हैं कि Hosting क्या होता है, कितने प्रकार का होता है और Hosting में Disk space, Bandwidth और Uptime क्या है?

web hosting kya hai

Web Hosting क्या है? हिंदी में

Web Hosting एक प्रकार का online space होता है जहां पर हम अपने वेबसाइट के सभी डाटा को Host या Store करके रखते हैं, 

इसे आप इस तरह से ही समझ सकते हैं, मान लिया जाए अगर आपको एक घर बनाना है तो इसके लिए आपके पास कुछ जमीन होना जरूरी है जहां आप अपने घर को बना सकें, इसी तरह अगर आप वेबसाइट बनाना चाहते हैं तो उसके लिए online space की जरूरत होती है जहां आप अपनी वेबसाइट के Photo Article और सभी Data store कर सके इसी online space को सरल भाषा में वेब होस्टिंग कहा जाता है।

[sp_easyaccordion id=”548″]

Web Hosting कितने प्रकार का होता है?

वेब होस्टिंग कई प्रकार के होते हैं, तो चलिए इनके बारे में भी पूरी डिटेल के साथ में जानते हैं।

हम यहां पर आपको तकरीबन 10 तरह के वेब होस्टिंग के बारे में बताने वाले हैं, जिसे आप अपने बिजनेस के अनुसार Buy कर सकते हैं और अंत में हम यह भी जानेंगे कि कौन सा Hosting आपके Business लिए सही है।

Shared web hosting – 

यैसा Web Hosting Server जाहाँ एक ही सरोवर पर बहुत सारे वेबसाइट होस्ट होते हैं उसे शेयर्ड वेब होस्टिंग कहते हैं।इसे शेयर्ड होस्टिंग इसलिए भी कहते हैं क्योंकि एक ही सर्वर पर बहुत सारे डोमेन होस्ट किए जाते हैं जो सर्वर के Storage, CPU और Ram को आपस में share करते हैं। यह Hosting का सबसे बेसिक प्लान होता है।

अगर आप एक नए वेबसाइट के लिए होस्टिंग खरीदना चाहते हैं तो यह आपके लिए बेस्ट है।

Reseller web hosting –

Reseller web hosting की मदद से आप web hosting provider बन सकते हैं। Reseller Hosting से आप दूसरे डोमेन के लिए एक शेयर्ड होस्टिंग प्रोवाइडर कर सकते हैं, इस होस्टिंग की मदद से आप अपना खुद का एक छोटा Hosting Company बना सकते हैं, जिसमें आप दूसरे लोगों को shared hosting प्रोवाइड करके अच्छा खासा पैसा कमा सकते हैं।

Virtual Private Server (VPS) –

इसे Virtual Dedicated Server के नाम से भी जाना जाता है, यह होस्टिंग काफी सिक्योर होता है। इसमें आपको होस्टिंग सर्वर का एक हिस्सा दे दिया जाता है जिसमें आप अपने हिसाब से जो भी चाहे वह कर सकते हैं।

इसे आप इस तरह से भी समझ सकते हैं, जैसे अगर आप किसी अपार्टमेंट में कोई एक फ्लैट लेते हैं तो उस फ्लैट के सभी रूम और जो भी चीज होता है उस पर सिर्फ आपका हक होता है उसी तरह, यहां Hosting में आपको एक hosting server का एक हिस्सा दे दिया जाता है जहां आप अपने हिसाब से जो भी करना चाहते हैं वह कर सकते हैं।

अगर आपके वेबसाइट पर प्रतिदिन बहुत सारे Visitors आते हैं या आप अपने वेबसाइट को एकदम से सिक्योर रखना चाहते हैं या फिर अगर आपके कंपनी का बजट अच्छा है तो आप अपने वेबसाइट के लिए Virtual Private Hosting का use करें, क्योंकि यह shared hosting के अपेक्षा में काफी महंगा और पावरफुल होता है।

Dedicated hosting server –

Dedicated Hosting में पूरा का पूरा एक Server दिया जाता है, इस hosting में पूरा कंट्रोल एक सिंगल यूजर को दिया जाता है, यह Hosting Shared Hosting के बिल्कुल विपरीत है, शेयर्ड होस्टिंग में आप बहुत सारे वेबसाइट को एक ही सर्वर पे होस्ट किया जाता है लेकिन dedicated hosting में आप सिर्फ एक वेबसाइट को होस्ट कर सकते हैं।

इसे आप इस तरह से भी समझ सकते हैं, मान लिया जाए आपके पास एक बहुत बड़ा बांग्ला है लेकिन वहां सिर्फ आपको अकेले रहने का इजाजत हो और पूरा कंट्रोल आपके पास है, यानी बंगले में रहना खाना-पीना और बंगले की देखभाल करना सारा जिम्मेदारी आपका होगा।

Amazon, Flipkart जैसी बड़ी वेबसाइट इस तरह के होस्टिंग का उपयोग करती है।और यह काफी फास्ट और महंगा होता है।

Managed hosting service – 

यह होस्टिंग बिल्कुल dedicated hosting की तरह होता है यहां भी आपको एक पूरा वेब सर्वर दिया जाता है, लेकिन यहां user को hosting के Root Access का पूरा control नहीं दिया जाता है। यानी आपको उस बंगले में रहने की अनुमति है लेकिन बंगले का पूरा कंट्रोल आपके पास नहीं होगा।

Colocation web hosting service –

यह बिल्कुल Dedicated Hosting की तरह ही होता है लेकिन यहां होस्टिंग कंपनी User को एक physical server प्रोवाइड करता है, सभी Hosting Company के पास physical server होता है जहां से वह सभी hosting को physically manage करते हैं। 

यानी यहां यूजर को Hosting एक पर्टिकुलर लोकेशन पर physically रूप में प्रोवाइड किया जाता है।

Cloud hosting –

Cloud Hosting एक ऐसा होस्टिंग है जो आपकी वेबसाइट को कुछ दूसरे Servers के virtual resources का उपयोग करके आपको बहुत सारे Hosting server प्रोवाइड करता है, जिसके कारण आपकी वेबसाइट काफी Fast load होती है। क्योंकि बाकी सभी Hosting में आपको सिर्फ एक hosting server दिया जाता है। जिसके कारण आपकी वेबसाइट Cloud Hosting की अपेक्षा Slow load होती है।

अगर आपका website Cloud Hosting पर host है और जब कोई यूजर आपकी वेबसाइट को ओपन करता है तो ऐसे में Cloud Hosting यूजर के सबसे नजदीक के होस्टिंग सर्वर से उसे कनेक्ट कर देता है जिसके कारण आपकी वेबसाइट काफी Fast load होती है।

Clustered hosting –

Clustered hosting भी कुछ कुछ Cloud Hosting की तरह ही होता है इसमें भी आपको बहुत सारे सर्वर दिए जाते हैं लेकिन यहां पर यूजर को अपने हिसाब से Hosting server चुनना होता है।

अगर आपके website पर audience अलग-अलग देश से आते हैं तो ऐसे में Clustered hosting की मदद से आप उन सभी देशों में अपना एक होस्टिंग सर्वर बना सकते हैं, जिससे आपके सभी user को आपका वेबसाइट फास्ट लोड होगा।

यानी अगर कोई user आपकी वेबसाइट को इंडिया से विजिट करता है तो ऐसे में वह visitor India से नजदीक वाले hosting server से connect हो जाएगा और Hosting server नजदीक होने के कारण आपकी वेबसाइट काफी fast load होगी।

Grid hosting –

Home server –

Read this – WordPress क्या है? पूरी जानकारी हिंदी में।

Windows और Linux Web Hosting में कौन बेहतर है?

जब आप किसी Hosting को खरीदने जाते हैं तो वहां पर आपको दो तरह के होस्टिंग शो होते हैं, Windows hosting और Linux hosting, तो ऐसे में​ आपको यह जानना जरूरी है कि आपको कौन सा होस्टिंग खरीदना चाहिए।

Windows hosting के लिए Hosting Company को Windows का license key खरीदना पड़ता है इसलिए यह होस्टिंग काफी महंगा होता है वहीं दूसरी तरफ Linux hosting एक open source operating system है, इसके लिए होस्टिंग कंपनी को कोई भी चार्ज नहीं पे करना होता है, इसलिए यह Hosting Windows hosting की अपेक्षा काफी सस्ता होता है।

Windows hosting, Linux Hosting की अपेक्षा काफी सिक्योर होता है फिर भी अधिकांश ब्लॉग और वेबसाइट आपको Linux hosting पर ही मिलेंगे, क्योंकि यहां काफी सस्ता होता है।

Disk Space, Bandwidth और Uptime क्या है?

जब आप Hosting खरीदने जाते हैं तो वहां पर आपको बहुत सारे Hosting plan दिखाई देते हैं, जो Disk Space और Bandwidth के अनुसार महंगे और सस्ते दाम पर मिलते हैं, तो यैसे में हमे इनके बारे में जानना बेहद जरूरी है।

Disk Space क्या है?

आप जो होस्टिंग खरीद रहे हैं उस पर आप कितने MB या GB का फ़ाइल होस्ट कर सकते हैं यह आपके Disk Space पर निर्भर करता है, जैसे अगर आप कोई फ़ोन या Computer खरीदते हैं तो उसके साथ मे आपको कुछ storage दिया जाता है उसी तरह होस्टिंग में आपको Disk Space दिया जाता है

Bandwidth क्या है?

आपके website पर visitors के द्वारा आपके को खोलने में उपयोग किया गया data (Internet) आपके hosting का Bandwidth होता है, अगर आपके hosting का Bandwidth 100MB है और एक समय पर आपके वेबसाइट को 50 visitor open करता है और आपके वेबसाइट को पूरी तरह से खुलने में 4 MB data लगता है तो यैसे में आपका वेबसाइट crash कर जाएगा क्योंकि आपके वेबसाइट का bandwidth काम है इसलिए hosting खरीदते समय Bandwidth का जरूर ध्यान रखे।

Uptime क्या है?

Uptime, आपका वेबसाइट दिन में कितने समय के लिए लाइव रहेगा ये uptime कहलाता है, सभी hosting provider 99% Uptime की Gurranty देते हैं।

Conclusion

मुझे आशा है कि अब आपको Web Hosting क्या है और कितने प्रकार का होता है इन सभी के बारे में जानकारी हो गयी होगी। अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगा है तो इसे अपने दोस्तों के साथ ज़रूर शेयर करे, और इसी तरह के और जानकारी के लिए हमारे Youtube चैनल और सोशल मीडिया पर follow करना न भूले।

अगर आपके मन मे कोई और सवाल है तो नीचे Comment ज़रूर करें।

5 thoughts on “Web Hosting क्या है और कितने प्रकार के होते हैं”

Leave a Comment